अपना सिबिल स्कोर कैसे सुधारें, जाने सिबिल स्कोर को बढ़ाने का तरीका

How To Improve Cibil Score in Hindi : सिबिल स्कोर आपके क्रेडिट रिकॉर्ड का एक महत्वपूर्ण भाग है जिसके माध्यम से कोई भी फाइनेंशियल कंपनी यह तय करती है कि आपको लोन मिलेगा या नहीं। अगर आपका सिबिल स्कोर अधिक है तो आपको बिना किसी समस्या के आसानी से लोन मिल सकता है, लेकिन अगर आपका सिबिल स्कोर या क्रेडिट स्कोर कम है तो कोई भी संस्था आसानी से लोन अप्रूव नहीं करती है।

वहीं अगर आपका सिबिल स्कोर कम है तो आपको क्रेडिट कार्ड में भी कुछ मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है। लेकिन आप चाहें तो अपना सिबिल स्कोर सुधार सकते हैं। आज हम आपको बताएंगे How To Improve Cibil Score (अपना सिबिल स्कोर कैसे बढ़ाएं)? यानि सिबिल स्कोर कैसे बढ़ाया जा सकता है? इसकी जानकारी के लिए आगे दी गई जानकारी को अंत तक ध्यान से पढ़ें।

विषय सूची

सिबिल स्कोर क्या है (CIBIL Score Kya Hai)

सिबिल स्कोर या क्रेडिट स्कोर तीन अंको की एक संख्या होती है जो 300 से 900 के बीच होती है। यह स्कोर किसी भी व्यक्ति के लोन लेने की योग्यता को दर्शाता है। सामान्य तौर पर अगर सिबिल स्कोर या क्रेडिट स्कोर 750 से अधिक होता है तो यह काफी अच्छा माना जाता है और इससे कोई भी कंपनी या संस्था लोन जल्दी अप्रूव कर देती है। क्योंकि कोई भी संस्था आवेदक को लोन देने के लिए जोखिम का मूल्यांकन उसके Cibil Score से ही करती है।

इसलिए आपको हमेशा बैंक की मासिक किस्त या क्रेडिट कार्ड के बिल का भुगतान समय पर कर देना चाहिए ताकि आपका सिबिल स्कोर खराब ना हो और भविष्य में आपको नए लोन के लिए या क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन करने में किसी प्रकार की कोई परेशानी ना आए। अगर आपका सिबिल स्कोर खराब है तो इसे सुधारने के लिए क्या करना चाहिए इसके बारे में आगे हम आपको बताने जा रहे हैं।

अपना सिबिल स्कोर कैसे सुधारें (How To Improve Cibil Score)

अगर आपका भी सिबिल स्कोर कम है और आप इससे परेशान है तो हम आपको आगे कुछ ऐसे तरीके बताएंगे जिससे आप आसानी से अपने सिबिल स्कोर को बढ़ा सकते हैं, तो चलिए शुरू करते हैं –

1. समय पर लोन का भुगतान करना

अगर आप अपना सिबिल स्कोर बढ़ाना चाहते हैं तो इसके लिए जरूरी है कि आप अपने बकाया लोन का समय पर भुगतान करें। अगर आप समय पर लोन का भुगतान नहीं करते हैं तो इससे आपका सिबिल स्कोर बुरी तरह प्रभावित होता है। समय पर ईएमआई भुगतान करने से आपका सिबिल स्कोर हमेशा अच्छा बना रहता है, वहीं अगर आप EMI भरने में देरी करते हैं तो आपको पेनल्टी भी भरनी होती है और साथ ही साथ सिबिल स्कोर भी काम हो जाता है।

इसे भी पढ़ें: क्या Low Cibil Score 500-600 पर पर्सनल लोन मिलेगा या नहीं

2. अच्छा क्रेडिट बैलेंस बनाएं

अगर आपने सिक्योर्ड और अनसिक्योर्ड लोन दोनों ही ले रखा है तो आपको पहले अनसिक्योर्ड लोन का भुगतान करना चाहिए क्योंकि सिक्योर्ड लोन लेने वाले व्यक्ति पर लोन देने वाली फाइनेंशियल कंपनी या बैंक को अधिक भरोसा होता है। इसलिए आपको हमेशा सिक्योर्ड और अनसिक्योर्ड लोन के बीच तालमेल बनाए रखना चाहिए जिससे आपका क्रेडिट बैलेंस अच्छा बना रहे।

3. प्रशासनिक गतिविधि पर नजर रखें

अगर आपने अपना पूरा लोन चुका दिया है और अपनी ओर से इस लोन को बंद कर दिया है तो उसके बाद भी आपको प्रशासनिक गतिविधि पर ध्यान रखना होगा। कई बार ऐसा होता है कि पूरा लोन चुका देने के बाद भी आपका लोन एक्टिव दिखाई देता है, इसकी वजह से भी सिबिल स्कोर लगातार घट जाता है। इसलिए लोन चुका देने के बाद सुनिश्चित करें कि आपका लोन एक्टिवेटेड नहीं है।

4 जॉइंट अकाउंट ना लें

आपको  कभी भी जॉइंट अकाउंट नहीं खोलना चाहिए और ना ही किसी लोन का गारंटर बनना चाहिए क्योंकि अगर आप किसी व्यक्ति के लोन का गारंटर बनते हैं और वह लोन चुका नहीं पाता तो इससे आपका सिबिल स्कोर भी प्रभावित होता है।

 5. क्रेडिट बिल बकाया ना रखें

आपको कभी भी क्रेडिट कार्ड का बिल बकाया नहीं रखना चाहिए क्योंकि इससे भी सिविल स्कोर काफी प्रभावित होता है। क्रेडिट कार्ड का बिल जितना जल्दी चुका दिया जाए, क्रेडिट स्कोर उतना अधिक बढ़ने की संभावना होती है। आपको तय तारीख से पहले ही अपने क्रेडिट बिल की बकाया राशि का भुगतान कर देना चाहिए।

6. एक समय पर एक लोन लें

क्रेडिट कार्ड को कम होने से रोकने के लिए कोशिश करें कि आप एक समय में एक ही लोन लें। अगर आप एक साथ कई सारे लोन ले लेते हैं तो उसे चुकाना बहुत मुश्किल हो जाता है जिसे सिविल स्कोर प्रभावित होता है।

7. क्रेडिट कार्ड का अधिक उपयोग ना करें

क्रेडिट स्कोर को इंप्रूव करने के लिए सबसे महत्वपूर्ण तरीका है क्रेडिट कार्ड की लिमिट का ध्यान रखना। आपको कभी भी अपने क्रेडिट लिमिट का 30% से अधिक खर्च नहीं करना चाहिए क्योंकि यह इस और संकेत करता है कि आपने बिना सोचे- समझे फिजूल खर्च किया है, जिससे सिबिल स्कोर कम होता है।

8. लोन भुगतान की लंबी अवधि चुनें

अगर आप लोन चुकाने के लिए अधिक लंबी अवधि लेते हैं तो आपकी ईएमआई कम हो जाती है, जिसे आप समय पर आसानी से चुका सकते हैं, इससे आपको सिविल स्कोर बढ़ाने में मदद मिलेगी।

Paytm Personal Loan Apply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Mp24News © 2024 Frontier Theme